Friday, December 31, 2010

साल का आखिर सच...

स्याह रात ने अपने पर फैला दिए थे .... साये गहरे होते जा रहे थे.... वो तड़प रहा था... सितारों ने बेड़ियों से जकड़ लिया था उसे....... आवारा उल्कायों ने पहले उसे दोस्ती के जाल  में फसाया और फिर जाते जाते उसे दाग दे कर चली गयीं ... अनगिनत दाग...उसके चहरे पर वो धब्बे साफ साफ नज़र आ रहे थे.... आवारा उल्काओं से उसकी दोस्ती धरती को पसंद नहीं आई थी शायद ... अब धरती की परछाई 'चाँद' को निगल रही थी... उसका अस्तित्व ख़त्म हो रहा था.... चांदनी का भी दम घुटा सा जा रहा होगा ... तभी तो उसकी रंगत पिली पड़ती जा रही थी.. चाँद की हमदर्द चांदनी ने भी शायद उससे दूर जाने का फैसला कर लिया था.... निसहाय सा चाँद उसे बस जाते हुए देख रहा था.... वो अपना हाँथ बढ़ा चांदनी की कलाई थाम लेना चाहता था..... पर उसके हाँथ तो उठे ही नहीं.... गुनाहों के बोझ तले दबे जो थे.... और बेरहम चांदनी? उसने तो पलट कर देखना भी गवारा न समझा...... चाँद की आँखे भर आई... उसकी आँखों से खून टपक रहा था...टप- टप... टप.. कर खून का हर एक कतरा मेरे लिहाफ को भिगोता रहा.... छत पर खड़ा मैं चाँद की इस दुर्गति का मूक दर्शक भर था..... चाँद की लौ फडफडा रही थी... शायद बुझने से पहले उसकी  आखिरी कोशिश होगी ... दम घुटने सा लगा .. हांफने की आवाज़ कानों में गूंज रही थी.. माथे पर हाथ फेरा तो हाथ चिपक कर रह गया.....चीखना चाहता था पर गले आवाज़ नहीं निकल रही थी....
हाँथ बढ़ा चांदनी को पकड़ लेना चाहता था.. बतलाना चाहता था , चाँद के लिए उसके मायने.... पर मेरे भी हाथ आगे नहीं बढ़ रहे थे.. वो तो हिलने तक को तैयार न थे.... मेरा हल भी चाँद जैसा ही था कुछ...एक झटके से मेरी ऑंखें खुल गयीं.. घबरा कर चारो तरफ देखा तो पाया अँधेरा ही अँधेरा था... दौड़ते हुए बालकनी में पहुंचा..... चाँद एक झुरमुट के पीछे छुपा मुस्कुरा रहा था... सपना देखा था मैंने.. अपने होश संभालते ही मैंने राहत की साँस ली.. 
मैं चाँद की आँखों में आँखें डाली.. उसने मेरी आँखों में झाँका... मैं मुस्कुराया और वो हंसा.... बोला मुझसे चाँद मेरा... पगले जलना बुझाना तो मेरी नियति है.... इससे डर कैसा....न धरती मुझे बुझा-बुझा कर थकती है और न मैं जलते जलते.... अँधेरे में तो सूरज भी रास्ता भटक जाता है.. मैं तो चाँद हूँ.. मेरे पास अपनी रोशनी कहाँ...? ना जाने कौन किसकी बेबसी पर हस रहा था, पर दोनों के चहरे पर एक मुस्कराहट जरुर थी ....और दोनों ही के आँखों में नींद का कोई अता-पता नहीं था..
नज़रें घुमाई तो देखा 'भोर का तारा' हम दोनों को देख मुस्कुरा रहा था.... अरे शाम ही को तो उसने संध्या के आगमन की सूचना दी थी और अब ? रैना की विदाई की तयारी में है? वक़्त कितनी जल्दी बदल जाता है न.... 
एक बार फिर चाँद को देखा... चाँद मुस्कुराया और बोला... तुझे क्या पता कब तेरी ज़िन्दगी में संध्या का कोई सितारा, भोर का तारा बन बैठे....मैं मुस्कुराया... टिक टिक की आवजा मुझे कमरे में बुला रही थी..  कमरे में आ, घडी की आँखों में झाँका तो पाया कि पांच बजने को हैं......आज इस साल का आखिरी दिन है... सोच ही रहा था कि एक ख्याल आया... आखिर 'new year resolution ' भी तो चीज है.... सोचंते लगा.... चाँद अब भी खिसकी से झांक रहा था.. उसे देखा और मैं मुस्कुराया ... मुझे एक नया new year resolution जो मिल गया था.... 
अबकी बार मुझे चाँद बनाना है..... कोई लाख बुझा बुझा के थक जाये ... मेरी लौ जलनी चाहिए... चाँद की  तरह..... हमेशा..... 

1 comment:

gold fish said...

:)